Liberian Work for Court

ग्रंथपाल या लाइब्रेरियन के कर्तव्य
Liberian Work for Court

प्रत्येक जिला न्यायालय में एक मुख्य ग्रंथालय या लाइब्रेरी रहती है प्रायः ग्रंथपाल या लाइब्रेरियन को ही फार्म एवं स्टेशनरी का चार्ज भी सौंपा जाता है। Liberian के निम्नलिखित कर्तव्य हैः-

  1. पुस्तकों को उचित रीति से सूची या कैटलाॅग बनाकर व्यवस्थित करना।
  2. जर्नलस के वाल्यूम को वर्ष के अंत में यथासंभव यथाशीघ्र बाईडिंग कार्यवाही प्रभारी अधिकारी के माध्यम से उनके निर्देशों में पूर्ण करवाना।
  3. विभिन्न न्यायालयों द्वारा मांगी जाने पर विधि पुस्तके नियमानुसार इश्यू करना और ये देखना कि वे वापस प्राप्त हो और उचित स्थान पर रखी जावे इस संबंध में Liberian का ध्यान म0प्र0 नियम एवं आदेश आपराधिक के नियम 689 की ओर दिलवाया जाता है जिसमें विधि पुस्तके इश्यू करने पर पेन्सिल से इंद्राज करने व पुस्तक वापस प्राप्त होने पर उस इन्द्राज को काट देने के निर्देश है। ग्रंथपाल इस संबंध में इश्यू की गई पुस्तकों के बारे में एक पृथक पंजी भी रख सकते है।
  4. Liberian को विषयवार विधि पुस्तकों को पृथक रखना चाहिए और जर्नलस को पृथक रखना चाहिए ताकि कोई भी पुस्तक ढूढ़नें में अधिक समय न लगे।
  5. जर्नल्स को वर्षवार जमाना चाहिए।
  6. Liberian को एक सूची रखना चाहिए जिसमें इस बात को उल्लेख हो कि कौन -कौन से जर्नल्स लाइब्रेरी में किस वर्ष से किस वर्ष तक के उपलब्ध है ताकि सूची देखते ही यह पता लग जावे कि कोई जर्नल्स लाइब्रेरी में उपलब्ध है या नहीं।
  7. यदि किसी न्यायालय को कुछ विधि पुस्तके स्थाई रूप से इश्यू कर दी गई है तो इस बाबत् केटलाॅग में न्यायालय का नाम और स्थाई रूप से पुस्तक इश्यू करने का नोट लगाया जाना चाहिए।
  8. Liberian का ध्यान नियम 692 म0प्र0 नियम एवं आदेश आपराधिक की ओर दिलवाया जाता है जिसमें प्रत्येक पुस्तक के मुख्य पृष्ठ पर कार्यालय की मुद्रा लगाने पुस्तक का सूची क्रमांक लिखने आदि के निर्देश है। ग्रन्‍थपाल को नियम 692 के अनुसार संशोधन को संबंधित पुस्तक के उचित स्थान पर लगाना चाहिए।
  9. यदि कोई जर्नल्स प्राप्त नहीं होता है तो संबंधित प्रकाशक को प्रभारी अधिकारी के माध्यम से स्मरण पत्र भेजना चाहिए।
  10. Liberian का ध्यान नियम 685 से 695 म0 प्र0 नियम एवं आदेश आपराधिक की ओर दिलवाया जाता है जिसके अनुसार ग्रंथालय या लाइब्रेरी को रखा जाना चाहिए।
  11. जैसे ही कोई जर्नल्स प्राप्त होता है उसे अवलोकन के लिए समस्त न्यायाधीशगण के पास बारी-बारी रखना चाहिए। प्रभारी अधिकारी महोदय से इस बारे में निर्देश लिये जा सकते हैं कि किस क्रम में न्यायाधीश गण के सामने जर्नल्स रखा जाना है। जैसे वरिष्ठता के क्रम में या संयुक्त बैठक के समय। यह Liberian का कर्तव्य है कि वह जो भी जर्नल्स आते है ़उन्हें सभी न्यायाधीशगण के सामने अवलोकनार्थ अवश्य रखे।
  12. Liberian को समय≤ पर केटलाॅग से विधि पुस्तकों को और अन्य पुस्तकों को मिलाते रहना चाहिए और यदि कोई कमी पाई जाये तो नियम 694 एवं नियम 693 म0प्र0 नियम एवं आदेश आपराधिक के अनुसार कार्यवाही करना चाहिए।
  13. Liberian का यह अत्यंत महत्वपूर्ण कर्तव्य है कि वह विधि पुस्तकों को और जर्नल्स को दीमक से बचाये और सुरक्षित रखे और इसके लिए हर संभव उपाय करे।
  14. यदि Liberian या लाइब्रेरियन के पास फार्मस एवं स्टेशनरी का भी चार्ज है तो उसे नियम 557 म0 प्र0 सिविल न्यायालय नियम, 1961 में दिये गये निर्देशों को ध्यान में रखना चाहिए जिसके अनुसार फार्म को उचित अभिरक्षा में रखना और उचित समय पर फार्मस् के लिए मांग पत्र भेजना आदि निर्देश है।
  15. नियम 558 के अनुसार लिखित मांग पत्र प्राप्त होने पर ही फार्म इश्यू करना चाहिए। Liberian का ध्यान नियम 557 से 564 म0 प्र0 सिविल न्यायालय नियम, 1961 की ओर दिलाया जाना चाहिए जिनमें लेखन सामग्री, फार्मस, स्टेशनरी के बारे में आवश्यक दिशा – निर्देश दिये गये है जिनका पालन किया जाना चाहिए।
  16. यदि ग्रंथालय में ऐसे खराब हो चुके फार्म पडे़ है जिनका अब कोई उपयोग न हो सकता हो तो इसके बारे में आवश्यक कार्यवाही हेतु प्रभारी अधिकारी के ध्यान में लाते हुये उनके निर्देशानुसार करना चाहिए।
  17. जो भी फार्म या स्टेशनरी इश्यू की जाती है उसका एक रजिस्टर रखना चाहिए और जिस कर्मचारी को वह इश्यू की जा रही है उससे रसीद लेना चाहिए।
  18. Liberian का ध्यान नियम 558 म0प्र0 सिविल न्यायालय नियम 1961 की टिप्पणी की ओर दिलाया जाना चाहिए जिसके अनुसार नये फार्म राज्य सरकार की पूर्व अनुमोदन से ही छापे जा सकते है और ज्यूडीशियल फार्मस में कोई भी परिवर्तन रजिस्ट्रार जनरल, म0प्र0 उच्च न्यायालय जबलपुर को आवेदन देकर ही और उनकी अनुमति से ही किया जा सकता है।
  19. Liberian को फार्मस एवं स्टेशनरी न्यायालयों की संख्या विगत वर्ष उपयोग की स्थिति को देखते हुये इतनी मात्रा में मंगवाना चाहिए कि किसी भी दशा में किसी भी न्यायालय के कार्य में फार्म एवं स्टेशनरी के कारण रूकावट न आवे।
  20. मेरे ख्याल से ग्रंथपाल को किताबों के नंबर के साथ एक इंडेक्स बनाना चाहिए जिसमें सारी किताबें और उनकी अलमारी नंबर उनके राइटर का नाम वेट कब खरीदी गई हर चीज की जानकारी एक ही जगह उपलब्ध होनी चाहिए जिससे उन्हें किताबें ढूंढने और उनके भौतिक सत्यापन करने मैं काफी आसानी होगी इसके साथ ही मेरे ख्याल से प्रत्येक दिन जब-जब किताबें जिन जिन अधिकारियों को दी जाती है तो उनकी रिसीविंग को भी अपडेट करते रहना चाहिए की सबसे पुरानी कब गई थी और कौन सी अभी तक नहीं लौटी है और कौन उन्हें लेकर गया था यह जानकारी ग्रंथपाल के लिए बहुत ही आवश्यक होती है ताकि उसे भविष्य में किसी भी तरह की कठिनाइयों का सामना ना करना पड़े इस प्रकार से यदि ग्रंथपाल किताबों के बारे में इंडेक्स बनाते हैं तो उन्हें भविष्य में अच्छे परिणाम ही मिलेंगे इसके साथ ही स्टॉक मैनेजमेंट के लिए भी कोड वाइज और स्टार्क वाइफ जानकारी गूगल सीट पर तैयार करनी चाहिए जिससे प्रत्येक दिवस जाना आना हर चीज़ का हिसाब किताब आपके पास तुरंत ही होना चाहिए कि आपके ग्रंथ आले में कौन-कौन सी चीजें उपलब्ध है उसका क्या-क्या रिकॉर्ड उपलब्ध है कितनी कम हो गई है कितनी ज्यादा है हर कुछ जानकारी आपको एक ही क्लिक पर मिलना चाहिए जिससे कभी भी कोटो का काम नहीं रुक पाए    इसी प्रकार आज के समय में न्यायालयों में सबसे ज्यादा न्यायिक कर्मचारियों को कार्टेज की समस्या अत्यधिक होती है वह समय पर नहीं मिल पाते जिससे बहुत ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ता है इसका सबसे अच्छा उपाय यही है की ग्रंथपाल को कॉटेज की पूर्ण रूप से उनके प्रिंट के हिसाब से अलग-अलग कॉटेज मेंटेन करना चाहिए ताकि कहीं का भी काम ना रुक सके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *